Posted in My writings

माँ मेरा ख़याल रखती है

बदलती है ज़िन्दगी मगर वो नहीं बदलती है ,
मेरी माँ हर तरह से मेरा ख़याल रखती है ।

जब भी कोई बादल बरसा या सूरज मुस्काया है ,
मैंनें हर अरसा बस उसका ही आसरा पाया है ।

सर्दी – गर्मी , सूखा – बारिश ,
धूप – छाँव सब मैंने देखा ;
देखा सर पे साया उसका ,
जब भी सर उठाके देखा ।

अपने शीतल सायें से मुझको ढंकके रखती है ,
किसी छाते की तरह माँ मेरा ख़याल रखती है ।

मेरी कम उम्र नादानियों को दूर से ताकती है,
फिर तजुर्बों से बूढ़ी हुई आंखे वो मलती है,

पास अपने मुझे बिठाती ,
धीरे धीरे प्यार से बताती ;
नजर और नजरिये में ,
है क्या फ़र्क मुझे समझाती ।

मेरे दिल – ओ – दिमाग के शीशे साफ़ रखती है ,
मेरे चश्मों की तरह माँ मेरा ख़याल रखती है ।

हर वक़्त रहूँ मैं “वक़्त पे” बस यही अलार्म बजाती है ,
वक़्त सुनहरा वक़्त तुम्हारा हर वक़्त मुझे बतलाती है ।

काम सभी निपटाती जाती ,
पीछे छोड़ घड़ी के कांटे ;
आलू काटे चावल चढ़ाये ,
वो पिसती दाल और आटे ।

थामके मेरा हाथ हर वक़्त साथ चला करती है ,
मेरी घड़ी की तरह माँ मेरा ख्याल रखती है ।

चाहती है बेटा उसका अपने पैरों पे खड़ा हो जाये ,
चाहे ये भी कोई ठोकर कोई कंकर हाय ना लग जाये ।

चले – दौड़े , थके – रुके ,
सांस भरे और फिर चलदे ,
सीधे – सपाट , आड़े – टेढ़े ,
रास्तों से बचाये मेरे तलवे ।

रखने पाँव मुलायम मेरे खुरदरे चमड़े से लगी रहती है ,
मेरी जुराबों की तरह माँ मेरा ख़याल रखती है ।

एक सादे कपड़े का टुकड़ा बन जेब में मेरी रहती है ,
मैं अगर लूँ छींक – खाँस तो तुरंत बाहर निकलती है ।

महँगा – मामूली , सफेद – रंगीन ,
वैसे सबके पास ये होता है ;
बच्चा – बूढा , अमीर – गरीब ,
इसके बिना हर कोई रोता है ।

जब भी जाऊँ उलझ उंगलियों में खेला करती है ,
मेरे रुमाल की तरह माँ मेरा ख़याल रखती है ।

ज्ञान-विज्ञान , कला-शिक्षा का अखूट एक पिटारा है ,
जीवन का सब सार समेटा, न खोजा हुआ खजाना है ।

मीठी यादें , प्यारी बातें ,
किस्से कहानियाँ बाँध रखी है
अपने भीतर नादानियाँ मेरी
ग़लतियाँ भी तो छुपा रखी है ।

ख्वाहिशों और जरूरतों को मेरी समेटकर रखती है ,
किसी सूटकेस की तरह माँ मेरा ख़याल रखती है ।

ज़िन्दगी को ज़िन्दगी बनाये रखती है ,
मेरी माँ हर तरह से मेरा ख़याल रखती है ।

-“भावुक”

*I wrote this poem specially for Mother’s day, so please share it and wish you all Happy Mother’s day…

क्यूँकि माँ हमारा ख़याल रखती है ।

Advertisements